खिंचाव एवं तनाव : कर्नाटक में कांग्रेस जेडीएस गठबंधन के ऊपर

               

In politically charged Karnataka, words gather the power to unsettle those in authority राजनीतिक रूप से उत्तेजित कर्नाटक में, शब्दों को यह शक्ति मिलना जारी है कि वे लोग जो सत्ता में हैं उन्हें अस्थिर कर दें । 

 

No relationship is free of tense moments and conflicting emotions. कोई भी रिश्ता तनावपूर्ण क्षणों एवं परस्पर विरोधी भावनाओं से स्वतंत्र नहीं होता है।

 

But the Congress-Janata Dal (Secular) alliance in Karnataka seems to have more than its share of stress and strain. लेकिन कर्नाटक में कांग्रेस-जनता दल (सेकुलर) गठबंधन मैं ऐसा प्रतीत हो रहा है कि जरूरत से ज्यादा खिंचाव एवं तनाव है ।

 

The pressures on the post-poll tie-up are from multiple points: the Opposition BJP that believes it was robbed of its mandate, and is looking to win over some of the MLAs of the Congress to topple the government; Congress members, especially those owing allegiance to former Chief Minister Siddaramaiah, who argue that the chief ministership should not have been handed over to the junior partner, the JD(S); and the leadership of the JD(S) that tries to assert itself within the alliance and expand the party’s base at the Congress’s expense. 

चुनाव बाद के गठबंधन पर अलग अलग बिंदुओं से दबाव होता है जैसे कि विपक्षी बीजेपी का यह विश्वास है कि उससे उसका शासनादेश छीन लिया गया है, और वे कोशिश कर रहे हैं कि कांग्रेस के कुछ एमएलए को अपने पक्ष में किया जाए ताकि सरकार को गिराया जा सके; कांग्रेस सदस्य खास करके वे जो भूतपूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया  के निष्ठावान हैं, जिनका यह तर्क है की मुख्यमंत्री की कुर्सी अपने कनिष्ठ सहयोगी जेडी(एस) को सौंपा नहीं जाना चाहिए था और जेडी(एस) की नेतृत्व यह कोशिश कर रही है कि गठबंधन में अपने को और मजबूत किया जाए और कांग्रेस की कीमत पर अपने दल के आधार का विस्तार किया जाए।

 

 

With the Lok Sabha election approaching, the stakes are high for all. चूंकि लोकसभा का चुनाव नजदीक आता जा रहा है सभी के लिए दांव पर बहुत ज्यादा लगा हुआ है।

 

The JD(S) wants to ensure it gets a good share of the seats as part of the alliance; the Congress realises it will have to concede ground to the JD(S) to keep the BJP out of the political turf, and the BJP knows the importance of being in power at the time of polls.

जेडीएस इस बात को सुनिश्चित करना चाहती है कि उसे गठबंधन में सीटों का अच्छा हिस्सा मिले और कांग्रेस यह महसूस करती है कि जेडी(एस) को सीट देने को स्वीकार करने के बाद ही बीजेपी को राजनीतिक मैदान से दूर रखा जा सकता है, और साथ ही बीजेपी को इस बात का महत्व पता है कि चुनाव के समय में सत्ता में होना क्या होता है ।

 

 After days of high drama, when the BJP and the Congress herded their MLAs in resorts to protect them from poaching, the pressure point on the government is from Siddaramaiah loyalists. बहुत से दिनों तक चले उच्च स्तर के नाटक जिसमें कांग्रेस और बीजेपी ने अपने अपने एमएलए को रिजॉर्ट्स में एकत्रित किया था ताकि उन्हें अवैध शिकार से बचाया जा सके, अब सरकार के ऊपर दबाव सिद्धारमैया के निष्ठावानों के द्वारा है ।

 

 Congress MLA S.T. Somashekar, on being appointed as the chairperson of the Bangalore Development Authority, claimed the city had not seen any development under the coalition government जब कांग्रेस के एमएलए एसटी सोमशेखर को बंगलुरु विकास प्राधिकरण का अध्यक्ष चुना गया तो उन्होंने दावा किया कि गठबंधन सरकार में शहर का कोई विकास नहीं हुआ है ।

 

. Chief Minister H.D. Kumaraswamy promptly offered to quit if his style of functioning was found to be unacceptable, forcing a rattled Congress leadership to rush to make amends. मुख्यमंत्री एचडी  कुमारास्वामी  ने तुरंत ही इस्तीफा देने की पेशकश की, यदि उनके नेतृत्व का तरीका अस्वीकार्य है जिसने परेशान कांग्रेस नेतृत्व को तुरंत ही इसमें सुधार करने को मजबूर किया ।

 

While Mr. Siddaramaiah signalled to his supporters and the party leadership he was not manoeuvring to be Chief Minister again, Mr. Somashekar apologised after KPCC president Dinesh Gundu Rao said he was at fault. इस दौरान मिस्टर सिद्धारमैया ने यह इशारा दिया कि उनके समर्थक और पार्टी नेतृत्व मुख्यमंत्री बनाने के लिए आगे कोई चाल नहीं चलेंगे, मिस्टर सोमशेखर ने तब माफी मांगी जब केपीसीसी अध्यक्ष दिनेश गुंडू राव के द्वारा यह कहा कि यह उनकी गलती है ।

 

That a statement by one MLA can create such a storm speaks to the structural instability of the arrangement. यह की एक एमएलए के द्वारा दिया गया वक्तव्य इतना बड़ा तूफान खड़ा कर सकता है, यह दिखलाता है कि इस पूरी व्यवस्था में संरचनात्मक अस्थिरता है ।

 

The Congress and the JD(S) came together in a marriage of convenience; the JD(S) was allowed to head the government to prevent it from entering into a deal with the BJP. कांग्रेस और जेडीएस मौकापरस्ती के कारण से साथ आए और जेडीएस को यह अनुमति दी गई कि वह सरकार का नेतृत्व करें जिससे कि वह बीजेपी के साथ कोई समझौता न कर पाए l

 

The only thing the Congress could offer the JD(S) that the BJP could not was the chief ministership. इससे कांग्रेस, जेडीएस को सिर्फ एक चीज प्रस्तावित कर पाई की बीजेपी का कोई भी मुख्यमंत्री ना बन सके l

 

This was no gesture of magnanimity; only pragmatic deal-making. यह कोई महानता की निशानी नहीं है बल्कि व्यवहारिक सौदेबाजी है ।

As negotiations on seat-sharing for the Lok Sabha polls begin, the strain is beginning to show. जैसे ही लोकसभा चुनाव के लिए सीट साझा करने का बातचीत शुरू हुआ तनाव दिखने की शुरुआत भी हो रही है ।

 In these trying circumstances, the level of political discourse is also falling. ऐसे  मुश्किल हालात में राजनीतिक विमर्श का स्तर भी गिरता जा रहा है ।

 

 While Union Minister Anantkumar Hegde made personal, derogatory comments about Mr. Rao, Mr. Siddaramaiah shouted at a party worker and grabbed the mike from her when she complained about the failure of officials to redress the grievances of her towns people. केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े ने मिस्टर राव के बारे में  व्यक्तिगत  एवं अपमानजनक टिप्पणी की, जबकि मिस्टर सिद्धारमैया अपने एक पार्टी कार्यकर्ता पर चिल्लाये और उससे उसकी माइक छीन ली जब उसने अधिकारियों द्वारा अपने शहर के लोगों की शिकायतों के निपटारा करने की विफलता के बारे में शिकायत की ।

 

In the surcharged atmosphere now, a remark is often enough of a spark to set off a ravaging fire. ऐसे उत्तेजित वातावरण में सिर्फ एक वक्तव्य पर्याप्त होता है कि तहस-नहस करने वाले आग को चिनगारी दे ।

 

 

 

UPSC NDA EXAM 2015

University of Delhi M.A M.Sc Entrance Test 2013

Indraprastha University Common Entrance Test (IPU CET) 2013

Madhya Pradesh Professional Examination Board (MPPEB), Bhopal PPT 201

Andhra Pradesh LAWCET PGLCET Entrance Test 2013

Common Pre Medical Entrance Examination Uttarakhand

NDA Entrance Exam (II) 2013 National Defence Academy - Navel Academy

Vinayaka Missions University (VMU) Exam 2013

Board of Technical Education (BTE) RPET 2013 Exam

Jagadguru Rambhadracharya Handicapped University Chitrakoot Entrance

Read more>>

वृद्धि का सहारा :आरबीआई के रेपो रेट कटौती के ऊपर

वीजा कार्रवाई: भारतीय छात्रों के गिरफ्तारी के ऊपर

मानक विचलन : नौकरियों के आंकड़ों के ऊपर

2 ND February 2019 current update

Interim Budget 2019-20

मत के लिए खरीदारी:अंतरिम बजट 2019-20 के ऊपर

अप्रत्याशित लाभ: पीले धातु के मुम्बई में 33,800 रुपये के बिन्दु को छून

गैरजरूरी कदम: राम मंदिर न्यास की जमीन को वापस सौंपने के ऊपर

साफ-सुथरी टीवी : टीआरएआई का प्रसारण, केवल सेवा के ऊपर आदेश

खिंचाव एवं तनाव : कर्नाटक में कांग्रेस जेडीएस गठबंधन के ऊपर

Read more>>

Faculty of Education University of Delhi M.Ed Admission 2013

SHIATS Allahabad Admissions 2013 (UG-PG)

Ravenshaw University Cuttack PG Diploma Course Admission 2013

Faculty of Education University of Delhi B.Ed Admission 2013

Xavier School of Management XLRI Jamshedpur PGCBM PGCHRM Admission 201

Dr. B.R Ambedkar National Institute of Technology MBA Admission 2013

Pandit Deendayal Petroleum University PDPU M.Tech Admissions 2013

Ch. Charan University Meerut 2013 Admissions M.Phil MEd MSc MA

Birla Institute of Technology (BIT) Mesra PG Courses Admission 2013

Tripura Medical College MBBS Admission 2013

Read more>>

सिविल सेवा परीक्षा:महिला ने बाजी मारी

सिविल सेवा में बिहार के परीक्षार्थियों को शानदार सफलता

केरल की हरिता बनीं यूपीएससी टॉपर

यूपीएससी का रिजल्ट आया, ये हैं टॉप टेन

मेहनत को मिला मुकाम

UPSC final result civil services exam 2012: Haritha V Kumar tops exam

Padma Bhushan awards 2013

Padma Shri Awards 2013

CLAT exam results for 2012

सीबीएसई की 12वीं के रिजल्ट आए, लड़कियों ने बाजी मारी

Read more>>